सुकन्या समृध्दी योजना, बेटियों के लीये सौगात, जाने क्या है खास ?

सुकन्या समृध्दी योजना

बेटी की पढाई एव बेटी के शादी का खर्चा कम करने के लिए भारत सरकार की और से सुकन्या समृध्दी योजना की शुरुवात की गई है| माता पिता को बेटियों की पढाई और उनकी शादी का खरचा उठाने में ज्यादा तकलीफ न हो| उनके भविष्य को बेहतर बनाने के लिए| सुकन्या समृध्दी योजना का शुभ आरंभ हमारे देश के माननीय वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा 2 दिसंबर 2014 को की गई थी| तो चलिए विस्तार से जानते है इस योजना के बारे में|

सुकन्या समृध्दी योजना क्या है खास?

सुकन्या समृध्दी योजना के तहत आपके बेटी का खाता आपके नजदिकी ‘पोस्ट ऑफिस ‘ या किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक में इस योजना से जुड़ा फॉर्म आप भर कर लाभ उठा सकते है|

इस योजना के तहत आपके बेटी के नाम का खाता उसकी १ से १० साल की उम्र  तक ही निकाल सकते है|

सुकन्या समृध्दी योजना अकाउंट में बेटी के नाम से एक साल में 1 हजार से लेकर 1 लाख पचास हजार रुपए तक जमा कर सकते है।

आपको साल में कम से कम 1000 या उससे अधिक रकम भरना पड़ेगा|

आप महीने के 1000 इस हिसाब से पैसा भर सकते है|

अगर कम से कम 1000 रुपये साल न भर पाए तो आपका खाता DEFAULTER माना जायेगा|

 केवल आपके सेविंग के ऊपर ही ३.0 % से 3.5% का ब्याज आपको मिलेगा|

 यह पैसा अकाउंट खुलने के 14 साल तक ही जमा करवाना पड़ेगा।

मगर, खाता बेटी के 21 साल या उसकी शादी के समय ही मैच्योर होगा।

बेटी के 18 साल के होने पर आधा पैसा बेटी के शिक्षा के लिए निकलवा सकते हैं।

उदाहरण :

उधाहरण के तौर पर मान लीजिये योजना के अंतर्गत 2015 में कोई व्यक्ति 1,000 रुपए महीने से अकाउंट खोलता है तो उसे 14 साल तक यानी 2028 तक हर साल 12 हजार रुपए डालने होंगे। मौजूदा हिसाब से उसे हर साल 8.6 फीसदी ब्याज मिलता रहेगा तो जब बच्ची 21 साल की होगी तो उसे 6,07,128 रुपए मिलेंगे। गौर करने वाली बात यह है कि 14 सालों में पालक ने अकाउंट में कुल 1.68 लाख रुपए ही जमा करने पड़े। बाकी के 4,39,128 रुपए ब्याज के हैं।

इस योजना में ब्याज के दर बदलते रहते है, यह दर सरकार बजट सत्र के समय घोषित करती है.

इस स्कीम में अब तक दिए गए ब्याज 
अप्रैल 1, 2014: 9.1% 
अप्रैल 1, 2015: 9.2% 
अप्रैल 1, 2016 -जून 30, 2016: 8.6% 
जुलाई 1, 2016 -सितम्बर 30, 2016: 8.6% 
अक्टूबर 1, 2016-दिसम्बर 31, 2016: 8.5% 

सुकन्या समृध्दी योजना क्या है नियम ?

आपकी बेटी का सुकन्या समृध्दी योजना अकाउंट उसकी १ से १० साल के उम्र में ही खुलवा सकते  है|

 अगर आपको दो बेटीया है तो दोनों के नाम से आप अलग अलग अकाउंट खुलवा सकते हो|

 तीन बेटिया है तो केवल पहली दो बेटियों के नाम से ही इस योजना के तहत अकाउंट खुलवा सकते हो|

 तिन बेटिया है और उनमे से जुड़वा बेटियां है तो प्रमाण पत्र की पुर्तता करके आप तीनो के नाम से अकाउंट खुलवा सकते हो|

अगर आप ने बेटी को गोद लिया है तो भी आप इस योजना का लाभ उसके भविष्य के लिए दे सकते हो|

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत खातों पर आयकर कानून की धारा 80-जी के तहत छूट दी जाएगी|

यानी इस रकम पर आपको कुछ भी आयकर भरना नहीं पड़ेगा|

योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:

इस योजना में कुछ आवश्यक कागजाद आपको लगेंगे जिसमे बच्ची का जन्म प्रमाणपत्र|

अभिभावक ( पालक ) का एड्रेस प्रूफ. और पहचान पत्र जैसे आधार कार्ड, वोटिंग कार्ड इत्यादि|

सुकन्या समृध्दी योजना अकाउंट ट्रांसफर:

 इस अकाउंट को लड़की के एक शहर से दूसरे शहर जाने पर इसे मूल स्थान से भारत के किसी भी शहर में ट्रांसफर किया जा सकता है।

साथ ही साथ इस योजना में आप इन्टरनेट बैंकिंग के जरिये भी पैसे ट्रान्सफर कर सकते हो|

योजना के लाभ:

भारत सरकार के द्वारा चलाई गई अन्य योजनाओ के मुकाबले इस योजना के तहत सबसे ज्यादा ब्याज दर आपको मिलेगा. इस योजना के तहत इंटरेस्ट रेट का नियोजन सरकार द्वारा फाइनेंसियल के बजट के समय घोषित किया जाता है. 

सुकन्या समृध्ही योजना का लाभ आप अपने टैक्स की बचत के लिए कर सकते हो. लोगोको इस योजना की और आकर्षित करने के हेतु से इस योजना में टैक्स बचत की सुविधा दी गई. यानि इस योजना में पैसा लगाने पर उन पैसो पर आपको कोई भी टैक्स नहीं देना होगा.

लॉक इन पीरियड होने की वजह से बेटियों की शादी और शिक्षा के हेतु से ही पैसा निकला जाता है. जिसकी वजह से फायदा तेजी से होता है. इस योजना में पालिसी के पूरा होने का समय लड़की के शादी होने तक या लड़की के 21 साल के होने तक का है. इसमे कुछ पैसा शिक्षा हेतु या फिर शादी करने हेतु लड़की के 18 साल होने के बाद ही मिलता है.

पालिसी की मचुरिटी होने के पश्चात जमा होने वाली राशी लड़की को ही मिलती है. सभी राशी लड़की के अकाउंट में डायरेक्ट ट्रान्सफर की जाती है. इस योजना के तहत लड़कियों को फाइनेंसियली निर्भर बनाने का लक्ष सरकार ने रखा है. लड़की की उम्र 21 साल होने पर सम्पूर्ण पैसा ट्रान्सफर किया जाता है.

सुकन्या समृध्ही योजना के तहत मेचुरिटी पूर्ण होने के बाद अगर अकाउंट बंद नही किया गया और रकम जैसे के तैसे रही गई तो भी उतना ही इंटरेस्ट योजना के नियमा नुसार मिलता रहेगा जितना पहले मिलता रहा है.

क्या है नुकसान.

सुकन्या समुध्ही योजना में मिलने वाला इंटरेस्ट फिक्स नहीं है. जैसा की फाइनेंसियल साल के बदलने पर सरकार बजट के दौरान इस योजना से जुड़े इंटरेस्ट की घोषणा करती है. पिछले कुछ फाईनेंसिअल साल में इंटरेस्ट रेट 9.1% से लेकर 8.5 % तक रहा है. RBI के पास इस योजना से इंटरेस्ट रेट चेंज करने का अधिकार है. 

इस योजना में premature withdrawal पॉसिबल नहीं है. पैसे निकालने के लिए लड़की की उम्र 21 साल होना अनिवार्य है. यह समय बहोत ही ज्यादा है. लेकिन केवल बेटी के भविष्य के जिम्मेदारी को समजे तो यह योजना कारगर साबित होती है.  

लॉकिंग पीरियड बहोत ज्यादा होने की वजह से जब तक लड़की की उम्र 21 साल न हो तब तक पैसे निकलना पॉसिबल नहीं है. आपको 14 साल तक इस स्कीम में पैसे भरना अनिवार्य है. 

 कब होगा अकाउंट बंद:

खाता खुलने के बाद कम से कम 5 साल तक यह खाता चलाना अनिवार्य है|

लड़की की शादी 18 साल की उम्र पूर्ण होने के बाद उसके 18 साल तक जो भी रकम जमा होगी वह उसे मिल जाएगी|

लेकिन सम्पूर्ण Maturity के लिए 21 साल की उम्र होना अनिवार्य है|

लड़की की 18 साल की उम्र में 50 % रकम शिक्षा के लिए  निकाली जा सकती है|

सके 21 साल की होने पर सम्पूर्ण रकम निकाल सकते है|

इसके लिए उसके खाते की १४ साल की मुदत (Maturity)

लड़की की आकस्मिक मृत्यु होने पर खाता बंद हो जायेगा| इसमे जमा रकम ब्याज के साथ अभिभावकों को मिल जाएगा|

सुकन्या समृध्दी योजना पोस्ट से जुडी जानकारी आपको  स्कीम बनाने वाली अथॉरिटी से बात कर के जूटा सकते हैं|

योजना की जानकारी मौजूदा नियमों के हिसाब से है, इसमें किसी बदलाव के लिए हमारी जिम्मेदारी नहीं है|

तो आपको यह जानकारी कैसी लगी मुझे कमेंट में जरुर बताये.

पढ़े: Facts About PAN CARD, क्या है PAN CARD series का मतलब.

पढ़े: How to use Function keys ? F1, F2, F3, F4, F5, F6…….

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *