Aadhar Virtual ID 16 DIGIT number for Aadhar Authentication

Virtual Aadhar ID

Aadhar Authentication प्रोसेस को सिक्योर बनानें के लिए Unique Identification Authority of India (UIDAI) की और से आधार कार्ड होल्डर के लिए 16 डिजिट का Aadhar Virtual ID लाने का फैसला UIDAI ने किया है. जैसा के हम जानते है फिलहाल में हमारे आधार कार्ड के ऊपर 12 डिजिट का आधार नंबर अस्तित्व में है. इस नंबर को government की सभी सुविधाओ के साथ लिंक कर दिया गया है. जिसके चलते केवल आधार नंबर का इस्तेमाल करके बहोत लोगो के साथ फ्रौड की केसेस बढ़ गई है.

इसी के चलते गवर्नमेंट की और से 16 डिजिट आधार Virtual ID टेम्पररी लाने का निर्णय लिया गया है. हमारे आधार नंबर को बैंक्स,फाइनेंसियल सेवा, परमानेंट अकाउंट नंबर (PAN) ,सोशल सिक्यूरिटी स्कीम और अन्य बहोत से ऑनलाइन सर्विसेस के साथ लिंक करना अनिवार्य किया गया है. इसी के चलते आधार कार्ड का होना हर एक नागरिक के लिए महत्वपूर्ण बन गया है. यह जो 16 डिजिट का Aadhar Virtual ID होगा उसे आप केवल वेरिफिकेशन प्रोसेस के लिए temporary तौर पर इस्तेमाल कर पाएंगे.

Aadhar Virtual ID क्या है?

Aadhar Virtual ID यह एक 16 डिजिट का रैंडम नंबर है. जिसमे बायोमेट्रिक से जुड़ने पर कुछ अनिवार्य डिटेल्स जैसे नाम, पता और फोटो ग्राफ जैसी डिटेल्स वेरिफिकेशन के लिए केवल दिखाई देगी. जिसमे आधार कार्ड होल्डर को आधार नंबर के बगेर ऑथेंटिकेशन की अनुमति दी जाएगी.

कैसे करेंगे Aadhar Virtual ID का इस्तेमाल?

Aadhar Virtual ID यह एक 16 डिजिट का रैंडम नंबर होगा जिसे ओरिजिनल आधार कार्ड के साथ मैप किया जायेगा. UIDAI के मुताबिक आधार नंबर के आखरी चार डिजिट के साथ एक प्रोग्रामिंग algorithm को जोड़ कर यह Aadhar Virtual ID बनाया जायेगा जिसमे यह Aadhar Virtual ID temaparary तौर पर इस्तेमाल किया जायेगा. और इसे समय समय पर आधार होल्डर आपने सहूलियत के हिसाब से बदल पायेगा. जिससे आधार नंबर को डुप्लीकेट करना रोका जायेगा. Aadhar Virtual ID का वैलिडिटी पीरियड कुछ दिनों तक रहेगा जिसके बाद उस आधार होल्डर को अपने हिसाब से इसे फिर से आधार की वेबसाइट से generate करना होगा.
Aadhar Virtual ID का इस्तेमाल मार्च 1, 2018 से आधार कार्ड होल्डर कर पाएंगे. और सभी एजेंसीज के लिए आधार ऑथेंटिकेशन केवल aadhar Virtual ID से करना 1 जून 2018 से अनिवार्य हो जायेगा. जिसके बाद कोईभी एजेंसी आधार होल्डर को 12 डिजिट आधार नंबर नहीं मांग सकेंगे.

सिक्योर आधार डिटेल्स:

UIDAI का अगला मकसद आने वाले दिनों में आधार कार्ड को पूर्ण तरह से सिक्योर करना होगा. जिसके लिए UI DAI ने लिमिटेड KYC यह कंसेप्ट खोज कर निकाला है, जिसमे आधार एजेंसीज को केवल कुछ लिमिटेड इनफार्मेशन उनके पोर्टल पर दिखाई देगी. इसके बाद आधार होल्डर को उनके आधार नंबर को किसी को बताने की जरुँरत नहीं पड़ेगी.

Read: फोन नंबर को Aadhar card से लिंक कराने की सबसे आसान प्रॉसेस, घर बैठे करे लिंक.

Read: मोबाइल नंबर को आधार कार्ड से लिंक नहीं किया तो हो जायेगा सिम कार्ड ( बंद )डीएक्टिवेट.

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *