Blue Whale Game क्या है और क्यों कर रहे है लोग Suicide. Mind hijack Game.

दोस्तों आप सभी ने एक गेम का नाम सुना होगा जिसका नाम है Blue whale Game. जो फिलहाल media में काफी चर्चा में है. इस गेम के चलते बहोत लोगो ने आत्महत्या कर ली है. Philipp Budeikin,नाम के  22 साल के रशियन सिरफिरे ने इस गेम को बनाया है. यह कोई गेम नहीं यह 50 instructions tasks है. इन task को करने के लिए Blue whale Game  में सहभागी व्यक्ति को मानसिक तौर पर दबाव बनाया जाता है. हालाकि गेम का मास्टर mind  Philipp Budeikin, पुलिस हिरासत में  है. लेकिन उसी technique का इस्तेमाल करते हुए कुछ सरफिरे लोगोने अलग अलग नाम से इस गेम को बढ़ावा देना शुरू कर दिया है.

Blue Whale Game

Internet का इस्तेमाल करने वाले छोटे बच्चे एवं मानसिक तनाव से ग्रस्त लोगों को यह टारगेट करता है. जिसमे हर सहभागी व्यक्ती को अपने आप को दिए गये task के अनुसार खुद को नुकसान करना होता है. जैसे हात पर ब्लेड से कट लगाना, नोखिली चीज से शरीर पर घाव कर लेना, सुबह चार बजे उठ कर डरावनी मूवी देखना.

हर task पूरा करने पर जो गेम का अंजान एडमिन है, उसे task complete करने के प्रूफ के लिए फोटो या विडियो भेजना होता है. यह 50 दिन का task instruction गेम है, जिसमे सबसे आखिर में participant को आखरी task दिया जाता है. जिसमे किसी बिल्डिंग से छलांग लगाना, खुद को फासी लगा लेना ऐसे task दिए जाते है. जिसमे मौत तय है.Blue whale game चार साल से अस्तित्व में है, पूरी दुनिया में 300 से भी ज्यादा लोग इस गेम के चलते आत्महत्या कर चुके है. अभी हाल ही में दो बच्चो ने India में इस गेम के चलते sucide कर ली.

क्या है Blue whale Game 

अभी हाल ही में 9 th standard के स्टूडेंट ने Blue whale game  के चलते अँधेरी मुंबई में छत  के बिल्डिंग से छलांग लगा ली.

 मध्य प्रदेश में एक 7 th standard के बच्चे ने थर्ड फ्लोर से छलांग लगा दी.

Blue whale game चैलेंज यह कोई video गेम नहीं है, यह एक set of task instruction है.

जो खेलने वालो के बिच में चेन बनाकर उन्हें उकसाया जाता है. इसे गेम को  social media के जरिये वायरल किया जा रहा है,

social media का इस्तेमाल करने वाले छोटे बच्चो (teen agers) को हैश tag का इस्तेमाल करके Twitter, Tumbler, youtube, फेसबुक और Instagram पर चैलेंज भेजे जाते है.

जिसमे खेलने वाले इन्सान को जबरदस्ती पहले उसकी निजी information लेकर उसे ब्लैक मेल किया जाता है.

उसे task में छोटे और खुद के शरीर को तकलीफ देने वाले task दिए जाते है.

task ना करने वाले लोगो को उसके पुरे परिवार को नुकसान करनेकी या मारनेकी धमकी दी जाती है.

उन्हें बुरी तरह डराया और धमकाया जाता है.

इस गेम के शिकार ज्यादातर छोटे कम उम्र के बच्चे और कुछ मानसिक तनाव में रहने वाले लोग हुए है.  

पढ़े: How To Win Friends and Influence People. life क्या है सिखा देंगी.

कैसे करता है आपके माइंड को Hijack Blue whale Game.

जैसा के हमने जाना Blue whale Game कोई विडियो गेम नहीं. यह एक task instruction गेम है.

जिसमे 50 अलग अलग task करने होते है. हर task को complete करने के बाद एक बढ़ा और पहले से थोडा ज्यादा खतरनाक task दिया जाता है.

जैसे जैसे task बढ़ते जाते है वैसे जान का खतरा भी बढ़ते जाता है.

सबसे आखरी task होता है suicide task. पर सवाल अब भी है आखिर क्यू सुनते है लोग उस अंजान शख्स की हर बात?

आखिर ऐसा क्या बोलता है वो शख्स जिससे हो जाते है लोग जान देने के लिए मजबूर? तो सुनिए.

  वैज्ञानिक तर्क के आधार पर देखा जाये तो किसी भी आदत को अपनाने के लिए एक नार्मल आदमी को 21 दिन तक, वो काम करना होता है, जिसकी वो आदत डालना चाहता है.

ऐसीही technique इस गेम को खेलने वाले लोगों के साथ यह सरफिरा गेम का एडमिन करता है.

पहले कम उम्र के और अपने झासे में आने वाले बच्चो को टारगेट करता है.

उन्हें गेम खेलने के लिए प्रोत्साहित करता है. इसके लिए वो गेम खेलने वालो की चैन बनता है और दुसरे participants की complete की हुयी task की इमेज सबसे शेयर करता है.

इसी तरह से शुरवात में छोटे छोटे और आसानी से होने वाले task दीये जाते  है.

हर एक task के बाद अपनी फोटो अनजान एडमिन को भेजनी पड़ती है.

इसी तरह से शुरू हो जाती है गेम खेलने वाले के mind को hijack करने की कोशिश.

task का चैलेंज बढ़ते बढ़ते मुश्किल task और शरीर को नुकसान करने वाले task दिए जाते है.

धीरे धीरे शुरू होता है ये मौत का कारवा जिसमे आखरी स्टेज है suicide. इस तरह से यह गेम वर्क करता है.

पढ़े: क्या रोज पढने से होते है फायदे, जानिए 10 बड़े फायदे, क्या जानते हैं आप ?

 कैसे रखे बच्चो को दूर इस गेम से:

आज internet का इस्तेमाल करना हर जगह पर बढ़ गया है.

अपने बच्चो को technology के साथ रखने के लिए माता पिता अपने बच्चो को mobiles, gadgets, लैपटॉप, गेमिंग Computers जैसी चीजे आज खरीद कर देते है.

लेकिन बच्चा  उस पर कोनसा गेम खेल रहा है.

internet पर क्या browsing क्या कर रहा है. इसके बारे में बहोत कम माता पिता  जागरूकता से ध्यान देते है.

इसी के चलते बच्चे कुछ गलत चीजो के संपर्क में internet पर आ जाते है.

माता पिता दोनों ही job पर हो तो बच्चो का मनोरंजन होना चाहिए.

वो कहीं बहार खेलने न जाये इसी लिए उन्हें यह इलेक्ट्रॉनिक्स चीजे आजकल दी जाती है.

उसी वजह से कही बार बच्चे गलत चीजो के संपर्क में आ जाते है.

बच्चे अगर कुछ ऑनलाइन देख रहे हो या गेम खेल रहे हो तो  उनके एक्टिविटी को नजर अंदाज करना खतरनाक साबित हो सकता है.

1. पेरेंट्स को बच्चो के साथ online एक्टिविटी में शामिल  होना चाहिए.

ज्यादातर पेरेंट्स बच्चो के वास्तविक दुनिया में उनके ऊपर ध्यान देते है.

जैसे वो कहा जाते है. कहा खेल रहे है.

इसी तरहसे पेरेंट्स को बच्चो के साथ ऑनलाइन दुनिया में शामिल होना चाहिए.

वो कोनसा गेम खेल रहे है, internet पर क्या सर्फिंग कर रहे है ब्राउज़र history मे जाकर चेक करना चाहिए.

आप अपने system में मोनिटरिंग सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके हर कंप्यूटर एक्टिविटी का रिकॉर्ड रख सकते हो.

2. कंप्यूटर या लैपटॉप को हॉल में रखे

गेमिंग कंप्यूटर या लैपटॉप को बच्चो के बेडरूम में न रखे.

ऐसी जगह रखे जहा उनपर आपकी आते जाते नजर बनी रहे.

 उनकी एक्टिविटी आप आसानी से देख सको.

3. Rules बनाये.

  • गेम खेलना या browsing करने का समय निर्धारित करे.
  • पढाई के वक्त लैपटॉप, कंप्यूटर और मोबाइल का इस्तेमाल करने से रोके.
  • रात को समय पर सोने से लेकर सही समय पर उठने की आदत बनाये.
  • रात को मोबाइल लैपटॉप और कंप्यूटर इस्तेमाल करने का समय निर्धारित करे.

4. social media पर रखे कुछ ध्यान.

  • social media का इस्तेमाल करते वक्त अनजान लोगों से दोस्ती करने से रोके, social media friends की जाँच करते रहे.
  • अपनी निजी जानकरी किसी से शेयर ना  करने के लिए उन्हें शिक्षित करे.

5. Parents के साथ  आपत्ति जनक बातों को शेयर करने के लिए उन्हें motivate करे.

अगर आप बच्चो के साथ प्यार से पेश आते है और उन्हें हर बात के लिए suggest करते है.

तो वो आपसे हर बात शेयर करेंगे. कोई भी एक्टिविटी उनके साथ ऑनलाइन घटती है.

ऐसी बातों को शेयर करने के लिए प्रोत्साहित करे. आप चाहे कितने भी बिजी क्यों ना हो उन्हें वक्त दे उनके साथ वक्त बिताये.

उनसे बातें करे. यह सब आप अपने बच्चो के लिए और उनके  ख़ुशी के लिए कर सकते है.

एक अच्छी और खुशहाल जिंदगी के लिए बच्चो के सामने लढाई झगडा ना करे जिनसे उनके नाजुक मन को ठेस लगे,

आशा करता हु आपको यह लेख पसंद आया होगा. इस post को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे.

Comments

  1. Reply

    • By admin

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *