Facts About PAN  CARD, क्या है PAN CARD series का मतलब.

Facts About PAN CARD

PAN का मतलब Permanent Account Number.  Income tax return फाइल, Vehicle Purchase, jewellery Purchase, या फिर नया बैंक Account खाता Open करने के लिए  हमें PAN CARD की आवश्यकता तो पढ़ती है.

PAN CARD का इस्तेमाल सभी फाइनेंसियल Transaction करते वक्त पढ़ती है.

इसके अलावा भी बहोत सी ऐसी बातें है जहा पर हमें PAN CARD की आवश्यकता  पढ़ती है.

आज हम इस पोस्ट में PAN CARD से जुड़े कुछ FACTS के बारे में जानेंगे.

जिससे आपको PAN CARD से जुडी बातों को जानने में मदत मिलेगी.   

PAN CARD के पहले General Index Register प्रणाली का इस्तेमाल किया जाता था.

यह एक यूनिक नंबर था जिसके जरिये कर वसूल करने वाला अधिकारी करदाता की पहचान करता था.

अगर करदाता का Address बदल जाता, तो उसका GIR नंबर बदल भी बदला जाता.

जिसके चलते GIR प्रणाली को fail होना पड़ा.

PAN कार्ड  का इस्तेमाल पहली बार 1972 से शुरू किया गया.

भारत सरकार की और से PAN कार्ड  की योजना को पूर्ण रूप देने के लिए Disitalised 36 कंप्यूटर सेंटर्स का  निर्माण 1985 में भारत में किया गया. 

यह प्रणाली भी इसके Objective को achieve नहीं कर पाई.

इस प्रोसेस में कुछ खामियों की वजह से और Data को ठीक तरह से मैनेज न कर पाने की वजह से fail होना पड़ा.

इन सभी तकनीकों से निपटने के लिए और PAN कार्ड को भरोसेमंद एवं करदाताओ को अच्छी सुविधा देने के लिए.

PAN CARD अनिवार्य करते हुए गवर्नमेंट की और से नयी PAN सीरीज का निर्माण किया गया.

जिसपर करदाताओ के नाम के साथ Date of Birth (DOB), फोटो और Signature अनिवार्य किया गया.  

Read :Important Google shortcuts जो आपको काम आएगी. क्या जानते है आप?

Read: How to use Function keys ? F1, F2, F3, F4, F5, F6…….

कैसा है PAN Seriese का Structure

  • PAN कार्ड का series 10 डिजिट का होता है. जिसमे पहले 3 डिजिट अल्फाबेट का रैंडम सिलेक्शन होता है. AAA से ZZZ तक.

 

  • फोर्थ डिजिट से PAN CARD होल्डर का स्टेटस लैटर दर्शाया जाता है. ‘A’ दर्शाता है Association of Persons (AOP), ‘B’ दर्शाता है Body of Individual (BOI), ‘F’ दर्शाता है Firm, ‘G’ दर्शाता है Government, ‘H’ दर्शाता है HUF (Hindu Undivided Family), ‘L’ दर्शाता है Local Authority, ‘J’ दर्शाता है Artificial Judiciary Person, ‘P’ दर्शाता है Individual/ Person और ‘T’ दर्शाता है AOP(Trust).

 

  • PAN कार्ड का फिफ्थ करैक्टर करदाता के Surname का प्रथम अक्षर दर्शाता है.

 

  • Sixth, seventh, eighth और Nine Digit रैंडम सीक्वेंस के हिसाब से 0001 से लेकर 9999 नंबर्स दर्शाते है. आखरी अल्फाबेट PAN कार्ड में फिफ्थ करैक्टर के बाद में आने वाले किसी भी लैटर को दर्शाता है. ex BFNPS1414K, BHXPS7083N

ऊपर दिए गए उदाहरण में लैटर ‘K’ और letter ‘N’ दोनों जगह पर दर्शाए ‘S’ लैटर से पहले के अक्षर है.

इस तरह से हमने जाना PAN CARD से जुडी जानकारी. PAN CARD कब से अस्तित्व में आया, इसका मूल मकसद क्या था इस बारे में. आशा करता हु आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी.

News Reporter
I am a Computer Engineer, Working with a reputed Company. I am a Youtuber and Professional Blogger. working with Number of Blogs. this blog is helping people for technical tricks and tips.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *