what is Pradhan Mantri Mudra Yojana 2018, प्रधान मंत्री मुद्रा योजना सम्पूर्ण जानकारी

Pradhan Mantri Mudra Yojana 2018

Pradhan Mantri Mudra Yojana का शुभ आरंभ हमारे देश के वित्त मत्री द्वारा 8 अप्रैल 2015 को किया गया था| युवाओ में कौशल विकास को बढ़ावा देना इस योजना का उद्देश्य है| Pradhan Mantri Mudra Yojana का लक्ष हमारे देश के नौजवान लोगो को उद्द्योग में सहायता करना एव कौशल विकास के आधार पर रोजगार को बढ़ाना है| इस योजना से लोगो को वित्तीय सहायता दी जाती है| इस योजना का नाम है माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट रेफिअनांस एजेंसी (Micro Units Development Refinance Agency ) यानी मुद्रा लोन |  इस योजना के माध्यम से सरकार वित्तीय समस्या से जूझ रहे छोटे उद्द्योगो को वित्तीय सहायता देकर युवाओ को खुद के पैरो पर खड़ा करने का मौका दे रही है| इस योजना में असंघटित क्षेत्र के व्ययसाय तथा लघु व्यवसायों को सस्ती ब्याज दर पर लोन उपलब्ध कराया जाता है| साथ ही नया व्यवसाय करने के लिए इस योजना के तहत युवाओ को बिना किसी गारंटी के लोन मिलने का प्रावधान है|

Pradhan Mantri Mudra Yojana

देश में आज नए उद्द्योगो को चालना देने के लिए बड़े उपक्रम की घोषना ‘स्किल इंडिया ’ योजना के साथ चलाई जा रही है | खासकर निचले तबके में आने वाले बहोत से लोग बैंकिंग प्रणाली से ज्यादा साहुकारो पर कर्ज के लिए निर्भर है | साहूकार अपने भरी भरकम ब्याज की किस्त लगाकर लोगो को ठगने का काम करते है | जिसके चलते कोई भी उद्द्योग पैसो के कमी के कारन नहीं चल पाता | इसी वजह से गाँव में बसे हमारे देश के युवाओ को आत्मनिर्भर बनाने और उनमे बसे कौशल का उपयोग देश की प्रगति में करने हेतु इस योजना का निर्माण किया गया है | भारत सरकार की संस्था नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस ( NSSO ) के 2013 में की गई सर्वे के मुताबिक देश में 5 करोड़ 77 लाख लघु उद्योग मौजूद है | जिनमे कुल 1.25 करोड़ लोग असंघटित तरीके से काम करते है | इस रोजगार के क्षेत्र को मजबूती देना सरकार का लक्ष है | उसी के साथ साथ बढती बेरोजगारी को कम करने और नए रोजागर के अवसर बढ़ाने में यह योजना बहोत कारगर साबित हो रही है |

हमारे देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली  द्वारा  वर्ष 2015 -16 के बजट भाषण के समय मुद्रा लोन की घोषणा की गई  थी | इसके बाद सरकार ने इस योजना पर अमल करते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 8 अप्रैल 2015 को 20,000 करोड़ रुपये के कोष को राष्ट्र को समर्पित किया | इस कोष के साथ 3,000 करोड़ रुपये के लोन गारंटी को जोड़ दिया गया |

Pradhan Mantri Mudra Yojana  का मुख्य उद्देश:

  • छोटे फाइनेंस कंपनी जो लोन देने के लिए काम करती है ऐसे संस्था और उसके वित्त प्रणाली का नियमन और उसके सक्रीय भागीदारी को मजबूत बनाने के साथ स्थिरता प्रदान करना |
  • सूक्ष्म वित्तीय संस्था और अन्य एजेंसिया जो छोटे कारोबार, दुकानदार, स्व-सहायता समूहों आदि को वित्तीय लोन उपलब्ध करते है | उनको इस योजना के तहत वित्त व लोन संबंधी सहयोग करना |
  • सभी माइक्रो फाइनेंसियल इंस्टिट्यूट को पंजीकृत करना और उनके प्रदर्शन के आधार पर उन वित्तीय संस्थानों को रेटिंग देना | इस सूचि से संस्था का आकलन करना आसान होता है | जिससे लोन लेने वालो को श्रेष्ठ एम एफ आई चुनने में मदत होगी |
  • यह समिति मुद्रा लोन लेने वालो को बिज़नस के सम्बन्ध में दिशा निर्देश करेगा जिससे किसी भी बिज़नस को संकट से उभरने में मदत मिलेगी | साथ ही अगर डिफ़ॉल्ट की स्थिति आ जाये ऐसे समय में पैसे की वसूली के लिए प्रयास का पालन किया जायेगा | पैसे की वसूली में भी सहयोग किया जायेगा |
  • मुद्रा क्रेडिट गारंटी स्कीम का निर्माण करके छोटे व्ययासयों को लोन की गारंटी दी जाएगी |
  • मुद्रा लोन लेने और देने की प्रक्रिया को सुलभ बनाया जायेगा जिसके लिए एक प्रभावी तकनीक लगाई जाएगी |
  • छोटे व्यवसायिक लोगो के लिए एक उपयुक्त ढांचा तयार किया जायेगा | जिसकी मदत से मुद्रा बैंक से मिलने वाले लोन को एक प्रभावी माध्यम से विकसित किया जा सके |

Pradhan Mantri Mudra Yojana जानकारी:

इस योजना में मुद्रा का मतलब होता है माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट रिफाइनेन्स एजेंसी जिसे मुद्रा कहा जाता है | हिंदी में मुद्रा का मतलब भी धन से यानि पैसो से होता है | इस योजना का मुख्य उदेश छोटे उद्द्योग को बढ़ावा देना और उसके साथ रोजगार के अवसर बढ़ाना है | ऐसे उद्योगों को धन की मदत करना जिनको पैसो की कमी के चलते अपने उद्योग में घाटा न झेलना पढ़े |

Pradhan Mantri Mudra Yojana की घोषणा 8 अप्रैल 2015 को की गई थी | मुद्रा बैंक वैधानिक अधिनियम के तहत इस योजना की स्थापना की गई थी | जिसमे छोटे और कुटीर उद्योगों के विकास की जिम्मेदारी प्रधान मंत्री मुद्रा योजना की होगी |

छोटे कुटीर उद्योगों को बैंक से लोन मिलना मुश्किल होता है | बैंक के जटिल नियमो को पूरा करने में उद्योगों को बड़ी मुश्किल का सामना करना पड़ता है | इसी वजह से छोटे उद्योगों को बढ़ने में समस्या होती है |  Pradhan Mantri Mudra Yojana का लक्ष है ऐसे उद्योगों को मजबूत बनाना साथ ही इस योजना के माध्यम से महिलाओ को सक्षम बनाना |

Pradhan Mantri Mudra Yojana की पात्रता :

Pradhan Mantri Mudra Yojana के लिए हर व्यक्ति जिसके नाम पर कोई उद्योग है वो कर सकता है | इसमे किसी के साथ पार्टनरशिप भी आप कर सकते हो | इसके लिए आपको सही दस्तावेज की पूर्ति करनी होती है | छोटी सी यूनिट के लिए मुद्रा योजना के तहत लोन ले सकते है |

कैसे मिलेगा लोन मुद्रा योजना के तहत?

अगर कोई भी भारतीय नागरिक मुद्रा योजना के तहत लोन लेना चाहता है | तो उसे कुछ शर्तों का पालन करना अनिवार्य है |

सबसे पहले मुद्रा योजना के बारे में आपको आपके नजदीकी बैंक में जाकर मुद्रा योजना का फॉर्म लेना होगा |

मुद्रा फॉर्म को भरकर उसके साथ मांगे गए सभी दस्तावेज की पुर्तता करनी होगी | साथ ही उस व्यवसाय से जुडी विस्तृत जानकारी आपको बैंक को लिखित रूप में देनी होगी | जिसमे व्यवसाय का स्वरुप, खर्चा, कितने लोगो को रोजगार मिल सकता है | इसके बारे में जानकारी देनी होगी |

इसके बाद बैंक की और से दी गई सभी औपचारिक बातो की पुर्तता आपको करनी होगी |

सभी औपचारिक बातो की पुर्तता करने के बाद आपको लोन के लिए बैंक से संपर्क बनाये रखना होगा | इसके बाद ही आपको लोन मंजूर होगा |

आवश्यक दस्तावेज :

Pradhan Mantri Mudra Yojana  के लिए आपको कुछ कागजात की पुर्तता करनी होती है | जिसमे आपको आवेदन फॉर्म के साथ यह कागजात जोड़ने होते है वह इस प्रकार है |

  • पहचान के लिए आधार कार्ड, वोटर आयडी कार्ड, पैन कार्ड, ड्रायव्हिंग लायसंस, पासपोर्ट की एक स्व सत्यापित प्रत देनी होगी |
  • निवास प्रमाण के लिए आपक वोटर आईडी कार्ड, आधार कार्ड, पासपोर्ट, टेलीफोन बिल मे से किसी एक की स्व सत्यापित प्रत देनी होगी |
  • आवेदक अगर अनुसूचित जाती/ जनजाति या पिछड़ा वर्ग से अगर आते है, तो इसके लिए उनको जाती प्रमाण पत्र की स्व सत्यापित प्रत देना अनिवार्य है |
  •  आपके व्यवसाय से जुडा लायसेंस, पंजिकरन प्रमाण पत्र, स्वामित्व की प्रतिलिपि साथ में जोड़ना आवश्यक है |
  • आवेदक किसी भी बैंक का डिफाल्टर न हो साथ ही किसी भी बैंक का बकाया न हो |
  • अगर आवेदक को 2 लाख रुपये से ज्यादा का लोन लेना चाहते है, ऐसे सूरत में आवेदक को पिचले 2 साल का इनकम टैक्स रिटर्न और बैलेंस शीट की प्रतिलिपि देना अनिवार्य है |
  • अगर आवेदक किसी बड़े बिज़नस को लगाना चाहता हो, या फिर अपने पुराने बिज़नस को बढ़ाना चाहता हो | ऐसे व्यवसाय के सम्बन्ध में परियोजना की रिपोर्ट को प्रस्तुत करना होगा | इस रिपोर्ट में बैंक को आपके व्यवसाय के तकनीक और आर्थिक स्थिति की जानकारी जुटाने में मदत होती है |
  • आवेदक को चालू वित्त वर्ष में उसके इकाई द्वारा की जाने वाली विक्री और मुनाफे तथा घाटे का पूरा ब्यौरा देना होता है |
  • अगर आवेदक का कंपनी या फिर पार्टनरशिप फर्म है तो उससे सम्बंधित डीड या मेमोरंडम की प्रतिलिपि देना होगा |
  • आवेदक को आवेदन के साथ में अपने 2 पासपोर्ट साइज़ फोटोग्राफ जोड़कर देना अनिवार्य है | अगर आवेदक का कंपनी या पार्टनरशिप फर्म है ऐसे समय में सभी निदेशकों के 2 -2 पासपोर्ट साइज़ फोटो देना है |

Pradhan Mantri Mudra Yojana का वर्गीकरण :

Pradhan Mantri Mudra Yojana से लोन लेने वाले स्कीम को तिन वर्गों में वर्गीकृत किया गया है | इस वर्गीकरण के आधार पर विभिन्न व्यवसाय के चरण है | पहले चरण में कारोबार शुरू करने वाले लोग है, दुसरे चरण में मध्यम स्थिति में कारोबार करने वाले लोगो को वित्तीय मजबूती देना और तीसरे चरण में उन कारोबारों को शामिल किया गया है | जो कारोबार को बढ़ने के लिए अधिक धन की तलाश में होते है | इन तीनो वर्गों की लोन की जरुरत पूरा करने के लिए मुद्रा राशी को बाटा गया है | जिसमे,

शिशु लोन, किशोर लोन और तरुण लोन इस तरह के नाम देकर इनका वर्गीकरण किया गया है |

  • शिशु लोन : इसके अंतर्गत 50 हजार तक के लोन दिए जाते है |
  • किशोर लोन: इसके अंतर्गत 50 हजार से 5 लाख तक के लोन दिए जाते है |
  • तरुण लोन : इसके अंतर्गत 5 लाख से 10 लाख रुपये तक के लोन दिए जाते है |

Pradhan Mantri Mudra Yojana के तहत लाभ उठाने के लिए सभी प्रकार के व्यवसाय का समाविष्ट किया गया है | जिनमे बड़े बिज़नस, पेशवरो औए सेवा क्षेत्र को शामिल किया गया है | इनमे सभी फल सब्जी विक्रेता रेहड़ी वाले, हेयर कटिंग सलून, छोटे दुकानदार, ब्यूटी पार्लर, होकर, साइकल बाइक कार रिपेयरिंग करने वाले, ट्रांसपोर्टर, मशीन ऑपरेटर, ट्रैक ऑपरेटर, दस्तकार, शिल्पी, पेंटर, खाद्य प्रसंकरण, होटल्स, सहकारी संस्थाए, लघु और कुटीर उद्योग आदि उद्योगों को शामिल किया गया है |

Pradhan Mantri Mudra Yojana के तहत भविष्य में कुछ सुविधाए लोन प्राप्त करने वालो को दी जाएगी | जिनमे मुद्रा कार्ड, निवेश लोन गारंटी, लोन सीमा में बढ़ोतरी, सभी लाभार्थियों को आधार कार्ड डेटाबेस से जोड़ना | साथ ही जनधन खाते से जोड़ना, लोन ब्यूरो की स्थापना करना,मिक्स मार्किट जैसे संस्थाओ का विकास करना |

Pradhan Mantri Mudra Yojana से मिलने वाले लाभ :

देश की आर्थिक स्थिती को भक्कम करने के लिए छोटे से छोटे व्यापारियों का विकास होना जरुरी है | इसके लिए उन्हें इस योजना से बल देना |

बिज़नस के बढ़ने से पढ़े लिखे नौजवानों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे जिससे देश की आर्थिक स्थिति में सुधार आयेगा |

ऐसे उद्द्योगो को बढ़ावा देना जिसंकी मदत से ज्यादा से ज्यादा लोगो को रोजगार मिल सके | छोटे और कुटीर उद्योगों का ज्यादा प्रमाण होने की वजह से ज्यादा आर्थिक रोजगार उपलब्ध होते है |

छोटे व्यापारियों का आत्मविश्वास बढेगा जिसकी वजह से प्रतियोगिता की भावना उत्पन्न होगी जो उनकी प्रगति में सहायक साबित होगी |

देश के विकास के लिए गरीब से गरीब तबके का विकास होना जरुरी है, इसी वजह से छोटे से छोटे उद्योग का चालना देना बेहद जरुरी है| जो प्रधान मंत्री मुद्रा योजना से पूर्ण हो सकता है |

Pradhan Mantri Mudra Yojana लोन कैसे मिलेगा :

सभी राष्ट्रिय बैंक में Pradhan Mantri Mudra Yojana से जुडी जानकारी एवं लोन के लिए आवेदन फॉर्म आसानी से मिल जायेगा. स्टेट बैंक ऑफ़ इण्डिया से Pradhan Mantri Mudra Yojana से लोन प्राप्त करने के लिए आप भी आपके नजदीकी SBI बैंक में जाकर जानकारी ले सकते है | SBI से लोन लेने के लिए आपको सभी तरह के कागजात की पुर्तता करनी होती है | पूरी जाँच पड़ताल के बाद ही लोन दिया जाता है | इसलिए बैंक जाने से पहले अपने सभी दस्तावेज को जाँच ले और साथ में लेकर जाये |

देश के सभी युवाओ के लिए भारत सरकार का यह उपक्रम सराहनीय है | पर बहोत जगहों पर केवल आवेदन करने के बाद फॉर्म को रखा जाता है | लोन पास होने में बड़ी दिक्कते आ रही है | इन समस्या का समाधान हो जाये तो शायद हर एक नौजवान का अपने पैरो पर खड़ा होने का सपना पूरा हो जाये और आने वाले दिनों में भारत एक सशक्त आर्थिक देश बनकर उभरे यही कामना !!!

जय हिन्द   जय भारत.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *