How to Secure Social Media Accounts From Hackers, Hindi

Social Media वेबसाइट पर बहुत ही कम ऐसे लोग होंगे जिनका अकाउंट नहीं है| Facebook, Gmail, Whats App इन सभी Social Media वेबसाइट का इस्तेमाल हमारी जिंदगी में एक आदत की तरह बन गया है| इन Social Media साइट्स पर हम अपनी जिंदगी के कुछ पल अपने दोस्तों के साथ शेयर करते हैं|

                                        अगर गलती से हमारा Social Media अकाउंट हैक हो जाए तो हमारा अकाउंट रिकवर कर पाना मुश्किल हो जाता है| अपने सोशल मीडिया अकाउंट को हैक होने से कैसे बचाए इसके बारे में इस पोस्ट में आज मैं आपको बताने वाला हूं| इस पोस्ट में हम जानेंगे हैकर किस तरह से आपका अकाउंट हैक कर सकते हैं|

How Hackers Hack Your Facebook, Gmail, Twitter(Social Media) Accounts:

फिशिंग (Fishing ) :

फिशिंग यह एक बहुत ही कॉमन तरीका है| Facebook हैक करने का|

बहुत से लोगों को यह बात पता नहीं होती और इसी के चलते उनका Facebook अकाउंट हैक हो जाता है|

फिशिंग हैकर्स फेसबुक पेज के लॉगइन पेज जैसा दिखने वाला एक पेज क्रिएट करते हैं|

उसे ईमेल ID के जरिए हमारे ईमेल पर सेंड किया जाता है|

जब हम वहां पर अपना यूजर आईडी और पासवर्ड इंटर करते हैं|

तो हमारा यूजर आईडी और पासवर्ड उस हैकर को सेंड हो जाता है|

यही सेम ट्रिक Gmail या फिर आपके बैंक अकाउंट की डिटेल्स की लेने के लिए भी कोई हैकर कर सकता है|

इस तरह से हमारा Facebook ,Gmail या फिर बैंक अकाउंट हैक हो सकता है|

की लोगिंग(Key Logging ):

की लोगिंग यह एक बहुत ही आसान तरीका है|

Facebook प्रोफाइल पासवर्ड हैक करने के लिए की लोगिंग एक स्मॉल प्रोग्राम होता है|

जो हैकर के द्वारा Facebook पासवर्ड हैक करने के लिए बनाया जाता है|

ज्यादातर हैकर कि लोगर के प्रोग्राम को बनाकर जिनका अकाउंट हैक करना है उनके कंप्यूटर में डायरेक्टली इनस्टॉल करते हैं|

अब सवाल यह आता है, कि लोगर कैसे वर्क करता है?

जब कि लॉग़र प्रोग्राम किसी कंप्यूटर में इंस्टॉल करता किया जाता है |

उस कंप्यूटर का यूजर अपना Facebook अकाउंट या फिर कोई और अकाउंट का यूजर आईडी और पासवर्ड उस कंप्यूटर में टाइप करता है|

तब की लॉग़र प्रोग्राम उस यूजर ID, पासवर्ड को सेव कर लेता है|

 और उस कंप्यूटर की इंफॉर्मेशन हैकर तक ईमेल के जरिए पहुंच जाती है|

सेशन हाईजैकिंग (Session Hijacking):

Session Hijacking यह एक बहुत ही खतरनाक तरीका है|

अगर आप अपना Facebook अकाउंट http:// connection इस तरह के लिंक पर चलाते हो|

Session hijacking मैं हैकर ब्राउज़र की कुकी को चुरा लेता है|

इस तरह के हैकिंग में ब्राउज़र की कुकी को हैकर यूज़ करता है और उसकी इंफॉर्मेशन चुराता है|

Session Hijacking का इस्तेमाल Lens मैं किया जाता है|

जब भी आपको किसी social media साईट का कनेक्शन https://कनेक्शन ऐसा दिखे तब ही लॉग इन करे|

बोटनेट्स (Botnets):

Botnets का इस्तेमाल बहुत ही कम जगह Facebook अकाउंट को हैक करने में किया जाता है|

बोट नेट को सेट करने की कॉस्ट बहुत ज्यादा होती है|

Botnets से बहुत ही एडवांस अटैक किए जा सकते हैं|

Botnets अटैक यह एक तरह का समझौता अटैक होता है|

Spy eye और zeus यह अभी तक के सबसे पॉपुलर बोट नेट अटैक है|

Faceniff:

Facebook अकाउंट हैक करने के लिए Faceniff ऐप के जरिए मोबाइल में या फिर blue stack की मदद से कंप्यूटर में यह अटैक किया जाता है|
Faceniff यह एक तरह का ऐप है| जिसकी मदद से यूजर के फेसबुक पेज को Secure Socket से unSecure Socket मैं भेजा जाता है|

इसमें प्रॉब्लम यह है की Facebook अकाउंट को सेम वाई-फाई नेटवर्क में ही हैक किया जा सकता है|

इस टेक्निक से बचने के लिए अपने वाईफाई नेटवर्क को एक स्ट्रांग पासवर्ड दे कर रखें|

Social Media अकाउंट को हैक होने से किस तरह से बचाए.(How to save your social media accounts from Hackers):

अपने पासवर्ड को रेगुलर अपडेट करें( Update your password regularly):

अपने सभी सोशल मीडिया अकाउंट का पासवर्ड रेगुलर चेंज करते रहे|

एक स्ट्रांग पासवर्ड सेट करें| सभी सोशल मीडिया पासवर्ड को सेम ना रखें|

अपने पासवर्ड में अल्फाबेट नंबर और स्पेशल करैक्टर का इस्तेमाल करें|

अपने नाम से मिलते जुलते पासवर्ड और अपने फेवरेट कलर फेवरेट, पर्सन या फिर अपने नजदीकी व्यक्ति के नाम पर पासवर्ड ना रखें|

इससे पासवर्ड हैक होने का खतरा ज्यादा बढ़ता है|

अपने मोबाइल नंबर को वेरिफिकेशन लिंक से जोड़े (Link Your Mobile Number with Verification code) :

सोशल मीडिया पर अपने मोबाइल नंबर को वेरिफिकेशन लिंक से जोड़ें|

जब भी आप अपने सोशल मीडिया अकाउंट में लॉगिन करोगे|

तो आपको एक OTP आपके मोबाइल नंबर पर आएगा|

जिसकी मदद से आप अपने लॉगइन को सिक्योर कर सकते हो|

अगर कोई व्यक्ति आपके अकाउंट में लॉगिन होना चाहता है तो आपका मोबाइल लिंक होने की वजह से वह लॉगइन नहीं कर पाएगा|

आपके मोबाइल पर आने वाला कोई भी OTP किसी से शेयर ना करें.

केवल अपने पहचान के लोगो से जुड़े (Add Trusted Contacts ):

सोशल मीडिया अकाउंट में बिना जान पहचान वाले लोगो को ऐड ना करें|

अपने पहचान के लोगों को ऐड करने से आपका अकाउंट रिकवर करते समय आपको मुश्किल का सामना नहीं करना पड़ेगा|

नजदीकी और पहचान के लोगों को ही फ्रेंड बनाए या फिर फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करें|

HTTPS कनेक्शन का इस्तेमाल करें (Use HTTPs Connection):

जिस वेबसाइट के आगे HTTPS लगा हो उसी कनेक्शन का ज्यादातर इस्तेमाल करें|

सिक्योर वेबसाइट पर विजिट करने से हैकिंग का खतरा नहीं होता है|

इस तकनीक को अपनाने से आप सोशल मीडिया हैकिंग से बच सकते हो|

अपना पासवर्ड सेव ना करें (Never Save Passwords) :

आप किसी अनजान जगह पर यानी साइबर कैफे या फिर किसी दोस्त के लैपटॉप या मोबाइल में अपने सोशल मीडिया लिंक ओपन करते हो |

तो पासवर्ड को सेव करके ना रखें| लॉग इन किया हुआ Social Media अकाउंट हमेशा लॉग आउट करें |

वेब ब्राउज़र की हिस्ट्री क्लियर कर ले|

ब्राउज़र में Social Media लिंक डालने पर जब आप अपना यूजर आईडी और पासवर्ड इंटर करते हो तो एक वार्निंग आपको दिखती है|

जिसमें आपका पासवर्ड सेव करने के लिए पूछा जाता है तब Not Saved पर क्लिक करें|

तो यह थी छोटी सी इंफॉर्मेशन किस तरह से आप अपने Social Media अकाउंट को हैक होने से बचा सकते हो| किस तरह से आप अपना सोशल मीडिया अकाउंट सेफ रख सकते हो इसके बारे में|आपके कुछ सुझाव हो तो मुझे कमेंट में जरूर लिखें|
धन्यवाद.

Read: मोबाइल नंबर को आधार कार्ड से लिंक नहीं किया तो हो जायेगा सिम कार्ड ( बंद )डीएक्टिवेट.

Read: बिजनेस करना है तो यह कहानी जरुर पढ़े. 1000X1000 फार्मूला.

News Reporter
I am a Computer Engineer, Working with a reputed Company. I am a Youtuber and Professional Blogger. working with Number of Blogs. this blog is helping people for technical tricks and tips.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *